Wednesday, June 3

अनसुने अल्फ़ाज़/ Morning Thoughts/ Quotes



अनसुने अल्फ़ाज़/ Morning Thoughts/ Quotes

             ?दूसरों पर पीएचडी करने से बेहतर है..
                हम खुद ग्रैजुएट हो जाएं !!

               ? अगर ये तय है…….. 
                 कि जो दिया है, वो लौट के आएगा
                 तो क्यूँ न……….. 
                 सिर्फ खुशियां और दुआएं ही दी जाएं!!






             ? किसी की चंद गलती पर न कीजिये कोई फैसला ,
                 बेशक कमियां होगी, पर खूबियां भी तो होगी !!!
           




           ? माँ की ममता और पिता की क्षमता …
                का आंकलन करने वाला दुनिया का सबसे बड़ा मुर्ख है!!







               ? मेरे अंदर से एक एक करके, सब कुछ हो गया रुखसत 
                मगर एक चीज बाकी है, जिसे ईमान कहते है..।






               ? मैं लम्हा हूँ, अरसा हूँ, कि मुद्दत हूँ…
                 ना जाने क्या हूँ बीता जा रहा हूँ…!!




               ? “हर दर्द की दवा है इस जमाने में साहब…”


                         ” बस “


                किसी के पास कीमत नहीं, किसी के पास किस्मत नहीं..!!







              ? ख़ामोशी छुपा देती है ऐब और हुनर दोनों 
                शख्सियत का अंदाज़ा तो गुफ्तगू से होता है!!




             ? बुलंदी देर तक किस शख्श के हिस्से में रहती है
                बहुत ऊँची इमारत, हर घडी खतरे में रहती है!!








           नज़र और नसीब का कुछ ऐसा इत्तफाक है कि
                नज़र को अक्सर वही चीज़ पसन्द आती है 
                जो नसीब मेँ नहीं होती!!

           




          ? अपने अंदर ख़ुशी ढूँढना आसान नहीं…….. 
               और एक सच ये भी है इसे और कहीं ढूँढना संभव भी नहीं!!








            ज़हर दे दूँ….., धोखे से सोचता हुँ
               सभी ख्वाहिशो को…., दावत पे बुलाकर !!!





Leave a Reply