Wednesday, June 3

अनसुने अल्फ़ाज़/ Morning Thoughts/ Quotes



अनसुने अल्फ़ाज़/ Morning Thoughts/ Quotes

    ?“कुछ लोग हार कर भी जीत जाते हैं !
          कुछ लोग जीत के भी हार जाते हैं !!
          नहीं दिखते है अकबर के ताबूत कहीं पर भी,
                 . . . . . . .लेकिन. . . . . . .
        “राणा के घोड़े हर चौराहे पर आज भी नजर आते हैं” !!!





    ? शब्दों का भी तापमान होता है,
         ये सुकून भी देते हैं और जला भी देते हैं।



    ?“मुझे जलाने से पहले मेरा दिल निकाल लेना
          कहीं दोस्त ना जल जायें जो दिल में बैठे हैं !!!



    ? दरख़्त होता तो, कब का टूट गया होता,
         मैं था नाज़ुक डाली, जो सबके आगे झुकता रहा !!!




                          ????????? 




     ?घायल तो यहां हर एक परिंदा है साहब मगर
         जो फिर से उड़ सका वही जिंदा है !!!



     ?गर मज़ारों से, ‘मुरादें’ पूरी होतीं तो..
         मज़ारों के बाहर.. ”फ़क़ीर” नहीं हुआ करते !!!



     ?मेहनत करे तो धन बने, सबर करे तो काम
        मीठा बोले तो पहचान बने, औऱ इज्जत करे तो नाम !!!
   


    ?वक्त  तो  रेत  है , फिसलता  ही  जायेगा
        जीवन  एक  कारवां  है, चलता  चला  जायेगा…..
      
       मिलेंगे  कुछ खास इस  रिश्ते  के  दरमियां
       थाम  लेना  उन्हें  वरना कोई  लौट  के  न  आयेगा !!!
       


   ?सुबह का प्रणाम  सिर्फ रिवाज़ ही नही 
       बल्कि आपकी फिक्र का एहसास भी है  !!!




   ?आरज़ू होनी चाहिए किसी को याद करने की……!!
        लम्हें तो अपने आप ही मिल जाते हैं !!!


    ?कौन पूछता है पिंजरे में बंद पंछियों को,
        याद वही आते है जो उड़ जाते है…!!


   
  ?जिंदगी तीन पेज की है…….
      पहला और अंतिम पेज भगवान ने लिख दिया है –   
                पहला ” जन्म ” .., 
                अंतिम ” मृत्यु ” ..,
       बीच के पेज को हमें भरना है –
      “प्यार”, “विश्वास”  और  “मुस्कराहट” के द्वारा !!!



Leave a Reply