Friday, September 18

अनसुने अल्फ़ाज || Real Zindagi

मित्रता करो तो खुशबू जेसी,
जो किसी के बदन से लिपटकर,
उस व्यक्ति का चरित्र बना दे ।।

                                                      हार जज्बों में नहीं मिला करती साहेब,
                                                      बस ढूंढना उन लोगों को है,
                                                      जो जज्बा कायम करने नहीं देते।।

क्या लिखूं, कैसे लिखूं, किस तरह लिखूं,
कब लिखूं, कहां लिखूं,  किसके लिए लिखूं,
क्योंकि लिखने के लिए भी,
कलम के पत्तों से मोहब्बत करना जरूरी है।।

                                                      दोस्ती करनी है तो धोखा देने वालों से करो,
                                                      क्योंकि धोखे की भी गहराई होती है आलम!
                                                      जिसे समझना जरूरी है।।

सोचने लगे अगर किसी और के बारे में तो
तुम फस जाओगे,
तुम डूब जाओगे और वो तैर जाएंगे।।


                                                      आँसू अगर आये तो ख़ुद पोंछिए,
                                                      लोग पोंछने आयेंगे तो सौदा करेंगे।|

ज़ुबानी इबादत ही काफी नहीं …
ख़ुदा सुन लेता है ख़यालात भी …
नींद भी कितनी अजीब चीज़ होती है..
आ जाए तो सब भुला देती है..
और न आए तो सब याद दिला देती है..!!

                                                       न जी भर के देखा न कुछ बात की ,,,
                                                       बड़ी आरज़ू थी मुलाकात की ॥

कामयाब लोग अपने #फैसले से दुनिया बदल देते है,
और #नाकामयाब लोग #दुनिया से डर कर अपने #फैसले बदल लेते है !!

                                                      बस इतनी पाकीजा रहे
                                                      आईना-ए-ज़िंदगी,
                                                      जब खुद से नज़र मिले तो
                                                       बेमिसाल हो…।




किसी को अपवित्र किये बगैर
प्रेम करना ही “पवित्र प्रेम” है!!

                                                        जिंदगी एक आइना है,
                                                        यहाँ पर हर कुछ छुपाना पड़ता है|

दिल में हो लाख गम,
फिर भी महफ़िल में मुस्कुराना पड़ता है |

                                                        वो उम्र भर कहते रहे तुम्हारे सीने में दिल ही नहीं..
                                                         दिल का दौरा क्या पड़ा, ये दाग भी धुल गया ….

आजाद रहिये विचारों सें..
              लेकिन..
बंधे रहिये अपने संस्कारों सें..

                                                          ज़िन्दगी मे कुछ हमारे दोस्त होते है,
                                                          और कुछ दोस्तो में हमारी ज़िन्दगी होती है !!

इस संसार मे अनेक कलाएं है,
और इन कलाओं मे सबसे अच्छी कला है,
दूसरो के ह्रदय को छू लेना..
 

                                                            “सार्वजनिक”​ रूप से की गई
                                                                        “आलोचना”​
                                                             “अपमान”​ में बदल जाती है ।।
                                                                             और ….
                                                                  “एकांत”​ में बताने पर
                                                                  “सलाह”​ बन जाती है..

                                                                           

                                                                        -By M&M

Leave a Reply